Cryptography | In Hindi

Cryptography | Introduction to Crypto-terminologies

Cryptography एक महत्वपूर्ण पहलू है जब हम Network Security से निपटते हैं। ‘Crypto’ का अर्थ है Secret या Hidden. Cryptography Data को Secret रखने के इरादे से Secret Writing का विज्ञान है। दूसरी ओर, Cryptanalysis, Science या कभी-कभी Cryptosystem को तोड़ने की कला है। इन दोनों शब्दों को Cryptology के रूप में कहा जाता है।

Classification-

Flowchart में दर्शाया गया है कि Cryptology Network को Secure करने वाले कारकों में से एक है। Cryptology में Codes के अध्ययन को संदर्भित किया जाता है, जिसमें Writing (Cryptography) और उन्हें हल करना (Cryptanalysis) दोनों शामिल हैं। नीचे Crypto-terminologies और उनके विभिन्न प्रकारों का वर्गीकरण है।

Classification




1. Cryptography –

क्रिप्टोग्राफी को Symmetric Cryptography, Asymmetric Cryptography  और Hashing में वर्गीकृत किया गया है। नीचे इन प्रकारों का वर्णन दिया गया है।

Cryptography

  • Symmetric key cryptography – इसमें Encryption और Decryption algorithms  के साथ एक Secret Key का उपयोग शामिल है जो Message contents को सुरक्षित करने में मदद करता है। Symmetric Key Cryptography की ताकत Key Bits की संख्या पर निर्भर करती है। यह Asymmetric Key Cryptography की तुलना में अपेक्षाकृत तेज है। एक महत्वपूर्ण Distribution Problem उत्पन्न होती है क्योंकि Key को Sender से Receiver में Secure Tunnel के माध्यम से Transfer किया जाना है।

Symmetric

  • Assymetric key cryptography –

इसे Public Key Cryptography के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि इसमें Secret Key के साथ Public Key का उपयोग शामिल है। यह Key Distribution की Problem को हल करता है क्योंकि दोनों Parties Encryption / Decryption के लिए अलग-अलग Key का उपयोग करते हैं। Bulk Messages को Decrypt करने के लिए उपयोग करना संभव नहीं है क्योंकि यह Symmetric Key Cryptography की तुलना में बहुत धीमा है।

Asymmetric

  • Hashing –

इसमें Plain Text और इसे Hash Function द्वारा Fixed Size के Hash Value में Convert करना शामिल है। यह Process Message की Integrity को सुनिश्चित करती है क्योंकि Message के unaltered होने पर Sender के Receiver और Receiver के Side दोनों का मिलान होना चाहिए।

Hashing

2. Cryptanalysis –

Cryptanalysis




 

  • Classical attacks –

इसे A)Mathematical analysis और B) Brute-force attacks में Devide किया जा सकता है।Brute-force attacks में Key के सभी Possible Cases के लिए Encryption Algorithm चलता है जब तक कि एक Match नहीं मिलता है। Encryption Algorithm एक Black Box के रूप में माना जाता है।Analytical attacks वे Attacks हैं जो Encryption Algorithm की Internal structure का analysis करके Cryptosystem को तोड़ने पर केंद्रित हैं।

  • Social Engineering attack –

यह कुछ ऐसा है जो Human Factor पर निर्भर है। किसी को Attacker के पास अपने Password Reveal करने या restricted Area तक पहुंच की अनुमति देने के लिए धोखा देना इस Attack के अंतर्गत आता है। किसी Third Party को अपने Password का खुलासा करते समय लोगों को सतर्क रहना चाहिए, जिस पर भरोसा नहीं किया जाता है।

  • Implementation attacks –

Implementation Arrack जैसे Side-Channel Analysis का उपयोग Secret Key प्राप्त करने के लिए किया जा सकता है। वे उन Cases में Relevant हैं जहां Attacker Cryptosystem तक Physical Access प्राप्त कर सकता है।


It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedInPin on PinterestShare on Tumblr

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *