History of Linux in Hindi

Linux का इतिहास :-

Linux ऑपरेटिंग सिस्टम 1991 में लीनस टोरवल्ड्स ने बनाया जब वह फिनलैंड में हेलसिंकी यूनिवर्सिटी का स्टूडेंट था | Linux एक तरह से Unix का प्रतिरूप हे | Unix एक सिंगल User ऑपरेटिंग सिस्टम था | लीनस टोरवल्ड्स ने Unix कि विशेषताओ से प्रभावित होकर अपने स्वयं का ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया जिसे Linux के नाम से जाना गया | लीनस टोरवल्ड्स ने Linux कर्नल का Source Code लिखा और उसने सभी लोंगो के लिये इन्टरनेट पर रख दिया | इसी लिए Linux को Open Source Code बोलते हे क्यों कि कोई भी व्यक्ति इस Source Code में बदलाव कर सकता और नए Code को लिख कर Linux कोड में सम्मिलित भी कर सकता हे |

 

Advantage of Linux in hindi

Linux कि विशेषताए :-

  1. Linux में मल्टी प्रोग्रामिंग कर सकते हे मतलब कि एक से अधिक प्रोगाम चलाये जा सकते हे |
  2. Linux बिल्कुल Free ऑपरेटिंग सिस्टम हे |
  3. Linux में वायरस नहीं लगते हे |
  4. Linux कि एक बहुत बड़ी विशेषता यह हे कि यह नए और पुराने दोनों तरह के हार्डवेयर को सपोर्ट करता हे |
  5. इसका इंस्टालेशन बहुत ही आसान हे |
  6. Linux एक मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम हे | इसमें एक ही समय पर एक से अघिक यूजर काम कर सकते हे |
  7. Linux में अलग से उपयोग आने वाले सॉफ्टवेर भी फ्री में मिलते हे उसका भी कोई अलग से चार्ज नहीं लगता हे |
  8. Linux में Web Server के लिए Apache नाम कि एक एप्लीकेशन हे | जिसमे Web Site page को तेयार कर सकते हे | Apache एप्लीकेशन को आज सबसे ज्यादा उपयोग में लिया जाता हे Linux में | जो बिल्कुल फ्री हे |
  9. Linux में भी Microsoft Windows कि तरह Grphical (ग्रफिकल ) Windows होती हे जिसको X – Windows के नाम से जाना जाता हे | यह विंडो GUI (Grphical User Interface) पर काम करता हे |
  10. Linux एक भरोसेमंद ऑपरेटिंग सिस्टम हे | जिसकी पुष्टि इसके उपयोग कर्ताओ से प्राप्त फीड बेक से प्राप्त होती हे |

What is the name of Linux operating System

 

It's only fair to share...Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedInPin on PinterestShare on Tumblr

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *